Sunday, May 29, 2011

Value Education in the Age of Globalism








Value Education in the Age of Globalism
Globalism today is being accepted as synonym for progress, scientific breakthroughs and technological revolution. With its long strides, it is being taken as a model prescription of the new utilitarian thrust in our approach to education. But in the sheer romantic indulgence of this new pursuit, it is not being realized that when the sole purpose of education becomes acquisition of higher and higher level of commercialism, and when education is allowed to drift along this wave and it consequently reduces to a coveted agency of material advancement, the symphonic order within the human soul becomes the natural casualty causing deformity in human emotions and perceptions. Such a development can endanger the peace and happiness of the mankind. With all its excitation tunes, it is devoid of our essential human music. The human face of education is, thus, missing in the wake of technological onslaughts on the value-based concept of education. The equilibrium has been considerably damaged causing a sense of tragic waste and futility, and this can be restored by identifying the role of value education in this age of globalism.
The traditional approach to education has been to see its utility and purpose in terms of social and moral awareness, to impart beauty and dignity to life and also to provide with a code of conduct for a good social and moral order. Character building is the key phrase in the Gandhian philosophy of education. Another recurring note that we trace in the writing of our philosophers is that education provides us with a faculty for positive discrimination between the right and the wrong and between the virtue and the vice. That knowledge which purifies the mind and the heart is the only true knowledge, all else are only negation of knowledge, says sri Ramkrishna Paramhans. And according to //Seneca, the object of education is inward development. Long ago, the great philosopher plato said “The main aim of education is all round development of the personality”. According to Herbert Spencer, the aim of education is to enable one to lead a complete and successful life. The same idea has been incorporated in the philosophy of the great German educationist John Fredric Herbert who opined that the one and the whole task of education may be summed up in the concept of morality. In this context our former president Dr. S. Radhkrishanan also observed that the troubles of the whole world including India are due to the fact that education has become a mere intellectual exercise and not the acquisition of moral and spiritual values. With the advent of industrial society and its aspirations, the educational scene has undergone a phenomenal change giving rise to new powers and new thrusts in educational management. The primary function of education is no longer the building of character or the promotion of moral order, but the emphasis has shifted to the promotion of skill, technical know-how and technology for material progress. The mass base of higher education in India has encouraged courses for utility skill; promotion of careerism ecomomic good and social prosperity. Education, today is no longer confined to the development of intellectual power or knowledge of the abstract kind, but to development and promotion of skills and know-how for industrial productivity and the production of goods, skills and services.
Education is still engaged in its primary function to generate and disseminate knowledge but cannot stop at this: it has to promote know-how, skills and technologies to make it respectable and comfortable in the changing situations. Higher education in India has, therefore, an obligatory duty to create technical and managerial human resource in all development sectors. It has to keep the vision of India becoming the fourth largest economy in the world by 2020 in mind and for this pace of growth it has to promote skills and technologies which will be required of Indians by that time. It has to keep communication revolution in mind, and must be prepared to create a well equipped generation of human power, a generation of producers and innovators, in other words, education is to act not as a moral reformer, but as an agent of social transformation and promoter of the desired change.
This change has, however, encouraged promotion of careerism without human values and ends in view. What is more unfortunate is the unmistakable trend of a mad rush for amoral and valueless desire for status and power in terms of commercialism and consumerism. To be in tune with the big development taking place in the world is good and desirable; but to achieve the educational power without human values in view, is fraught with dangerous possibilities.
The need of the hour is to temper the utilitarian pursuit of education with integrated vision of a happy order of life on earth and also with spiritual, cultural and aesthetic values of the modern age. productivity must not suffer and education must prove to be a powerful agent and promoter of productivity. Productivity can even be accepted as a new value of education but the Sciences and technological streams should also promote scientific approach to problems and a rational and human outlook on life. A meaningful promotion of a rational and human outlook on life. Would necessarily require education of human rights and fundamental freedoms. This will have a focus on environmental. Cultural, Social, political, economic and developmental rights with quality concerns in the matter of the related issues.
Catholicity of mind is another important value which must be promoted by the post modernist education. Established as a component of education and a cherished value, it can ensure broad based understanding, spirit of good mixing, perseverance, tolerance, receptivity and sensibility for appreciation of imaginative powers, cultural slants and angularities of varied social groups of the world. An educated person is after all supposed to be able to come out of his narrow walls and boundaries of ideas and creeds, and to have respect for the point of view of others in our pluralistic society.
The power of modern education can be better realised by achieving a happy integration of utility and value, integration of body and mind, emotions and ideas, individual and society, society and the world. The vision of progress must not be devoid of human element the aspects of vision which make the progress meaningful and purposeful. The progress that is aimed at and desired is an assertion of the power of human imagination and so the fruits of this progress must be realized with the ends of humanity in minds. The tools of change are powerful, but their application must be humane and they must be employed for pious purposes.
So in the wake of the phenomenal and dimensional developments on the educational front, reorientation of value in the post modernist education assumes special significance. Here are certain concrete recommendations for tempering utilitarian pursuit of higher education with desirable ideals and visions of human happiness.
A) Education must promote rational outlook on life and scientific approach to issues confronting the real life situations.
B) An imaginatively framed course in fundamental freedoms and human rights must constitute a component of our Degree level curriculum.
C) Power that education generates must be employed for constructive human purposes.
D) Education must develop sensitivity to environment and must foster human ethos for the enjoyment of the fruits of progress.
E) Humanism should be the motto of education in all circumstances, and it must promote quality concern for corporate behavior and corporate life.
F) Education must be able to develop a working mechanism to fight the evil of consumerism and acquisitive culture so that environment may be protected and development may remain sustainable.

योग का अति सरल अर्थ है - किसी की याद. किसी भी याद आना या किसी को याद करना - यह मनुष्य का स्वाभाविक गुण है. मन जिस विषय पर सोचता है,



राजयोग का आधार और विधी

योग का अति सरल अर्थ है - किसी की याद. किसी भी याद आना या किसी को याद करना - यह मनुष्य का स्वाभाविक गुण है. मन जिस विषय पर सोचता है, उसी के साथ उस आत्मा का योग है. फिर वह चाहे व्यक्ति, वस्तु, वौभव या परिस्थिति हो या परमात्मा ही क्यों न हो. अब मन कहाँ-कहाँ जा सकता है, मन का कहीं भी जाने का आधार क्या हैं ? संसार में करोड़ो मनुष्य है लेकिन मन सभी के विषय में नहीं सोचता है. मन उसी के बारें में सोचेगा, जिसका उसे परिचय हो तो पहला आधार है परिचय. फिर जिसके साथ सम्बन्ध तीसरा आधार है स्नेह. जिससे स्नेह होता है उसके पास मन अपने आप चला जाता है. चौथा आधार है प्राप्ति. जहाँ से किसी को प्राप्ति होगी वहाँ से वह अपना मन हटाना ही नही चाहेंगा. तो किसी की भी याद के लिए मुख्य चार आधार है - परिचय, सम्बधन्ध, स्नेह और प्रापित. इनहीं चा आधारों के कारण मनुष्य की याद सदा बदलती ही रहती है या परिवर्तनशील होती है. एक बालक का योग अपनी माता के साथ है क्योंकि उसको केवल माँ का परिचय है. माँ से ही उसे स्नेह मिलता है, भोजन मिलता है. माँ को न देखने पर वह रोता है और माँ के उसे उठाने पर वह चुप हो जाता है. इससे सिध्द है कि उसका योग अपनी माता के साथ है. बालक थोड़ा बड़ा होने पर खेलकूद में रस लेने लगता है तब उसका योग माँ से परिवर्तित होकर अपने दोस्तों और खेल में जुट जाता है और माँ का बुलावा भी वह टालने की कोशिश करता है. विद्यार्थी जीवन में बच्चे का योग अपनी पढ़ाई, पाठशाला और शिखक से हो जाता है. व्यावहारिक जीवन में आने के बाद उसका योग - धन, सम्पत्ति, मर्तबा, इज्जत, अन्य सम्पर्क मंे आने वाले व्यक्तियों के साथ हो जाता है, विवाह होने पर कुछ समय के लिए उसका योग पत्नी के साथ हो जाता है. सन्तान होने पर पत्नी से भी योग हटकर सन्तान से हो जाता है. बीमारी के दिनों में पूरा ही योग डॉक्टर के साथ होता है. क्योंकि उससे ही इलाज होना है. इस प्रकार योग परिवर्तनशील है तो फिर देहधारियोंे से योग हटाकर परमात्मा से योग लगाना कठिन क्यों होना चाहिए, जहाँ परिचय, सम्बध, स्नेह और प्राप्ति है वहाँ योग लगाना बड़ा ही सहज है, अब ये चारों ही आधार परमात्मा से जोड़े जाएँ तो राजयोग कोई कठिन विधि नहीं है.

सबसे पहले राजयोग के लिए स्वयं का और परमात्मा का परिचय होना आवश्यक है. मौ कोन हॅूं और मुझे किसके साथ योग लगाना है ? अगर हम अपने-आपको देह समझेंगे तो हम परमात्मा के साथ कभी भी योगयुक्त नहीं हो सकेंगे. देह अभिमान समझने से यही संकल्प आयेगे - `मौ पिता हँू` तो बच्चे याद आयेंगे, ``मौ शिक्षक हँू`` तो विद्यार्थी याद आयेगें ``मौ व्यापारी हँू`` तो ग्राहक याद आयेंगे. लेकिन जब स्वयं को आत्मा निश्चय करेंगे तब ही परमात्मा याद आयेगा. इस प्रकार राजयोग की पहली सीढ़ी है - आत्मा और परमात्मा के पूर्ण परिचय के आधार पर दोनों मे निश्चय. दोनों का परिचय तो दूसरे और तीसरे सत्र मं मिला है,
अब परमात्मा के साथ आत्मा का किस प्रकार के सम्बन्ध और उसको याद करने की विधी क्या है इस पर विचार करेंेंगें -

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय बायो --डाटा (परिचय ) ब्रह्मा कुमार भगवान भाई आबू




बायो --डाटा (परिचय ) ब्रह्मा कुमार भगवान भाई आबू पर्वत बायो --डाटा (परिचय ) ब्रह्मा कुमार भगवान भाई आबू पर्वत ब्रह्माकुमारी नाम: राजयोगी ब्रह्मा कुमार भगवान भाई ब्रह्माकुमारी शांतिवन में राजयोगा टीचर मुख्यालय प्रजापिता ब्रह्मा कुमारी ईश्वरीय विद्यालय विश्व आबू पर्वत राजस्तान में रसोई विभाग में ब्रह्मा भोजन में सेवा लेखक, विभिन्न मगैनेस और समाचार पत्रों में शैक्षिक योग्यता: 10 वीं और आय .टी .आय . जन्म तिथि: जून 1, 1965 सेवा स्थान: अबू रोड, शांतिवन ज्ञान में : 1985 सेवा में समर्पित कब से 1987: सेवा --- जैसे, ग्राम विकाश कई आध्यात्मिक अभियानों में , रैली, शिव सन्देश रथ यात्रा, मूल्य आधारित मीडिया अभियान, मूल्य आधारित शिक्षा अभियान, युवा पद यात्रा, आदि भारत के विभिन्न प्रदेशों में, साथ ही में नेपाल में भी भाषण विभिन्न विषयों पर पर संबोधित किया है कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय (5000) स्कूल में नीतिक मूल्य बारे में स्कूलों और जेलों (800) समाज सेवा पुनर्वास शिविर बाढ़ जैसे प्राकृतिक आपदाओं, भूकम्प आदि कोर्स और प्रशिक्षण कार्यक्रम में विभिन्न क्लास लिया है यह ईश्वरीय विश्वविद्यालय के एक बहुत अच्छे लेखक हैं. अपने लेख बहुत बार कई पत्रिकाओं में प्रकाशित कर रहे हैं जैसे (हिंदी) ज्ञानामृत , विश्व नवीनीकरण (अंग्रेज़ी) के रूप में,


प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय शांतिवन के भगवान भाई का
नाम इंडिया बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्ड में दर्ज किया गया। यह सम्मान उन्हें
पांच हजार स्कूलों के हजारों बच्चों को मूल्यनिष्ठ शिक्षा के जरिए नैतिक
एवं आध्यात्मिक विकास के लिए लगातार पढ़ाए जाने तथा आठ सौ जेलों के
हजारों कैदियों से अपराध छोड़ अपने जीवन में सद्भावना, मूल्य तथा मानवता
को बढ़ावा देने के उद्देश्य से आयोजित किए गए हजारों कार्यक्रमों के जरिए
संदेश देने के अथक प्रयास के कारण मिला है।दिल्ली के कनॉट प्लेस में 22
अप्रैल को यह सर्टिफिकेट इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड के चीफ एडिटर विश्वरूप
राय चौधरी की तरफ से आयोजित एक समारोह में दिया गया।

बायो --डाटा (परिचय ) ब्रह्मा कुमार भगवान भाई


सकारात्मक विचार से समस्या समाधान में बदल जाती है राजयोगी भगवान भाई







सकारात्मक विचार से समस्या समाधान में बदल जाती है राजयोगी भगवान भाई
सकारात्मक विचार से समस्या समाधान में बदल जाती है राजयोगी भगवान भाई कटनी। बदलने से विपरीत परिस्थिति भी सहज दिखने लगती है। अपनी समस्या को समाप्त करने एवं सफल जीवन जीने के लिए विचारों को सकारात्मक बनाने...
सकारात्मक विचार से समस्या समाधान में बदल जाती है राजयोगी भगवान भाई
कटनी। बदलने से विपरीत परिस्थिति भी सहज दिखने लगती है। अपनी समस्या को समाप्त करने एवं सफल जीवन जीने के लिए विचारों को सकारात्मक बनाने की बहुत आवश्यकता है। उक्त उद्गार प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय माउंटआबू से आए राजयोगी भगवान भाई ने कहे। वे स्थानीय ब्रह्माकुमारीज राजयोग सेवा केन्द्र पर तनावमुक्त विषय पर संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि समस्याओं का कारण ढूढने की बजाए निवारण ढंूढ़े। उन्होंने कहा कि समस्या का चिंतन करने से तनाव की उत्पत्ति होती है। मन के विचारों का प्रभाव वातावरण पेड़-पौधों तथा दूसरों व स्वयं पर पड़ता है। यदि हमारे विचार सकारात्म है तो उसकासकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। उन्होंने बताया कि जीवन को रोगमुक्त,दीर्घायु, शांत व सफल बनाने के लिएहमें सबसे पहले विचारों को सकारात्मक बनाना चाहिए। राजयोगी भगवान भाई ने कहा कि सकारात्मक विचार से समस्या समाधान में बदल जाती है। एक दूसरों के प्रति सकारातमक विचार रखने से आपसीभाई चारा बना रहता है। उन्होंने सत्संग एवं आध्यात्मिक ज्ञान को सकारात्मक सोच के लिए जस्री बताते हुए कहा कि हम अपने आत्मबल से अपना मनोबल बढ़ा सकते है। सत्संग के द्वारा प्राप्त ज्ञान और शक्तियां ही हमारी असली पूंजी हैं। स्थानीय ब्रह्माकुमारी राजयोग सेवा केन्द्र की भगवती बहन ने कहा कि राजयोग के निरंतर अभ्यास के द्वारा हम अपने कर्म इद्रियों को संयमित कर अपने आंतरिकसद्गुणों का विकास कर

Wednesday, May 25, 2011

प्रजापिता ब्रह्मकुमारी इश्वरीय विश्वविद्यालय माउंट आबू क्रोध विवेक को नष्ट करता है। क्रोध का प्रारंभ मूर्खता से आरंभ होकर पश्चाताप में जाकर समाप्त होत



क्रोध मूर्खता से आरंभ होता है: भगवान भाई
क्रोध मूर्खता से आरंभ होता है: भगवान भाई
भास्कर न्यूज & रेवाड़ी


क्रोध विवेक को नष्ट करता है। क्रोध का प्रारंभ मूर्खता से आरंभ होकर पश्चाताप में जाकर समाप्त होता है। यह बात प्रजापिता ब्रह्मकुमारी इश्वरीय विश्वविद्यालय माउंट आबू से पधारे भगवान भाई ने स्थानीय ब्रह्मकुमारीज सेवाकेंद्र पर आयोजित क्रोधमुक्त जीवन विषय पर बतौर मुख्य वक्ता बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि क्रोध से तनाव और तनाव से अनेक बीमारियां पैदा होती हैं। क्रोध के कारण ही मन की एकाग्रता खत्म होती है। इस कारण मन अशांत बन जाता है। उन्होंने क्रोध को अग्नि बताते हुए कहा कि इस अग्नि में स्वयं भी जलते हैं और दूसरों को भी जला
क्या हो उपाय

उन्होंने क्रोध पर काबू पाने का उपाय बताते हुए कहा कि राजयोग के अभ्यास से क्रोध पर काबू पाया जा सकता है। इसके लिए निश्चय कर परमपिता परमात्मा को मन बुद्धि के द्वारा याद करना, उनके गुणगान करना ही राजयोग है।

सकारात्मक विचार तनाव मुक्ति के लिए संजीवनी बूटी है। सकारात्मक सोच का स्रोत आध्यात्मिकता है। कमलेश बहन ने कहा कि तनावमुक्त बन कर्म इंद्रियों पर संयम कर सकते हैं। कार्यक्रम को कैप्टन राम सिंह ने भी संबोधित किया।

प्रजापिता ब्रह्मकुमारी इश्वरीय विश्वविद्यालय माउंट आबू से पधारे भगवान भाई ने स्थानीय ब्रह्मकुमारीज सेवाकेंद्र पर आयोजित क्रोधमुक्त जीवन विषय पर बतौर म




प्रजापिता ब्रह्मकुमारी इश्वरीय विश्वविद्यालय माउंट आबू से पधारे भगवान भाई ने स्थानीय ब्रह्मकुमारीज सेवाकेंद्र पर आयोजित क्रोधमुक्त जीवन विषय पर बतौर मुख्य वक्ता बोल रहे थे। प्रजापिता ब्रह्मïकुमारी ईश्वरीय विवि द्वारा 7 दिवसीय योग शिविर जारी है। उन्होंने कहा कि राजयोग शिविर राजयोग स्वयं का परमात्मा से संबंध का नाम है। मन और बुद्धि का आध्यात्मिक अनुशासन राजयोग है। यह विचारों के आवेग व संवेग का मार्गान्तरीकरण कर उनके शुद्धिकरण की प्रक्रिया है। राजयोग व्यक्ति के संस्कार शुुद्ध बनाने और चरित्रिक उत्थान द्वारा शारीरिक एवं आध्यात्मिक स्वास्थ्य लाभ का नाम है। इसके साथ ही यह जीवन की विपरीत एवं व्यस्त परिस्थितियों में संयम बनाए रखने की कला है। आध्यात्मिकता का अर्थ स्वयं को जानना है। प्र्रेम छोटा सा शब्द है, पर जीवन में इसका बड़ा महत्व है। साधन बढ़ रहे हैं, लेकिन जीवन का मूल्य कम होता जा रहा है। उन्होंंने कहा कि सभी को भगवान से प्रेम है। परमात्मा सूर्य के समान है। उनसे निकलने वाली प्रेम रूपी किरणें सभी पर समान रूप से पड़ती है। उन्होंने कहा कि शांति हमारे अंदर है, इसे जानने के साथ ही महसूस करने की भी जरूरत है। भगवान कभी किसी को दुख नहीं देता बल्कि रास्ता दिखता हैे। काम, क्रोध, लोभ, मोह एवं अहंकार के त्याग से ही भगवान के दर्शन होते हैं। राजयोग के अभ्यास से उनके जीवन में हुए सकारात्मक परिवर्तन को साझा किए।

उन्होंने कहा कि सहज राजयोग ही आत्मा-परमात्मा के मंगल मिलन का एक सरल उपाय है। इसी राजयोग ज्ञान एवं ध्यान के नियमित अभ्यास से मनुष्य अपने आंतरिक ज्ञान, आनंद एवं सुख शांति को उजागर कर सकता है। इससे वह संसारी जीवन में दुख, कष्ट व समस्याओं के समय अपने आत्मबल एवं आत्मविश्वास के आधार पर संतुलन कायम रख सकता है और जीवन में सफलता प्राप्त कर सकता है।

उन्होंने कहा कि मानव जीवन की सार्थकता व सफलता के लिए सत्संग आवश्यक है। सत्संग को पाकर जीवन मंगलमय बन जाता है, जबकि कुसंगति से जीवन नरकमय हो जाता है। मनुष्य को सदासत्संग अच्छे संस्कारों से मिलता है। संस्कार भी वही सार्थक होते हैं, जो महापुरुषों के दर्शन कराएं। संतों की संगति से ही जन्म-मरण के कष्टों से मुक्ति मिलती है। परोपकारी भावना से कार्य करना चाहिए, इसका फल स्वयं भगवान देते हैं।

उन्होंने कहा कि क्रोध से तनाव और तनाव से अनेक बीमारियां पैदा होती हैं। क्रोध के कारण ही मन की एकाग्रता खत्म होती है। इस कारण मन अशांत बन जाता है। उन्होंने क्रोध को अग्नि बताते हुए कहा कि इस अग्नि में स्वयं भी जलते हैं और दूसरों को भी जला क्रोध विवेक को नष्ट करता है। क्रोध का प्रारंभ मूर्खता से आरंभ होकर पश्चाताप में जाकर समाप्त होता है। क्या हो उपाय

उन्होंने क्रोध पर काबू पाने का उपाय बताते हुए कहा कि राजयोग के अभ्यास से क्रोध पर काबू पाया जा सकता है। इसके लिए निश्चय कर परमपिता परमात्मा को मन बुद्धि के द्वारा याद करना, उनके गुणगान करना ही राजयोग है।

सकारात्मक विचार तनाव मुक्ति के लिए संजीवनी बूटी है। सकारात्मक सोच का स्रोत आध्यात्मिकता है। कमलेश बहन ने कहा कि तनावमुक्त बन कर्म इंद्रियों पर संयम कर सकते हैं।

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय



जहॉं एक ओर लोग भौतिक्ता की दौड़ के साथ नित नये दिन अपनी जीवनशैली में परिवर्तन कर रहे हैं। वहीं पिछले 74 वर्षों से हजारों महिलाये नैतिकता का पाठ पढ़ाते हुए बेहतर समाज की परिकल्पना साकार करने की मुहिम में जुटी हुई हैं। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय, विश्व की पहली ऐसी अन्तर्राष्ट्रीय संस्था है जिसका संचालन महिलायें करती हैं। मानव जीवन से बुराईयों को दूर करने तथा मानवीय मूल्यों को आत्मसात करते हुए एक मिसाल कायम की है।

ब्रह्माकुमारीज संस्था की मुख्य प्रशासिका 94 वर्षीय राजयोगिनी दादी जानकी जी कॆ अगुवाई में 26 हजार महिलायें इस संस्था में पूर्णरूप से समर्पित हैं। इन्होंने विश्व के 132 देशों में भारतीय संस्कृति और मूल्यों को प्रतिस्थापित करने का परचम फहराया है। व्यसनों, सामाजिक कुरीतियों, अंधविश्वास, हिंसा, भेदभाव से रहित दस लाख से भी ज्यादा लोगों की ऐसी लम्बि फेहरिस्त तैयार की है जो आने वाले नये युग और नयी समाज की परिकल्पना का जीवंत उदाहरण है। इसमें सभी वर्गों, जाति, धर्म तथा आयु के लोग सिम्मलित है। अपने संयमित जीवन से श्रेष्ठता का पाठ पढ़ाने वाली बहनें शहरों से सुदुर ग्रामीण इलाकों तक जाकर लोगों को स्वच्छता, साक्षरता, नैतिकता तथा बेहतर जीवन प्रणाली के लिए प्रेरित करती है। इनके सान्निध्य से घर परिवार में रहने वाले लोगों ने अपनें संयमित तथा खुशहाल जिन्दगी की मिसाल पेश की है। यही नहीं इनके कार्यक्षेत्र में उत्कृष्टता का प्रदर्शन देखने को मिला है जो लोगों के लिए प्रेरणास्रोत है।

ज्ञातव्य हो कि प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय एक अन्तर्राष्ट्रीय गैर सरकारी शैक्षणिक संस्थान है। जिसका अन्तर्राष्ट्रीय मुख्यालय माउण्ट आबू राजस्थान है। जो पिछले 74 वर्षो से समाज में बढ़ रहे अत्याचार, भ्रष्टाचार, अपराध, हिंसा, आतंकवाद, , जातिभेद, रंगभेद को समाप्त कर आपसी एकता, समरसता, अहिंसा तथा श्रेष्ठ समाज की स्थापना के लिए कार्यरत है।

यह संस्था संयुक्त राष्ट्र के जन सूचना विभाग से सम्बन्ध एक अशासकीय संगठन है। इसे संयुक्त राष्ट्र के बालकोष, आर्थिक एवं सामाजिक सलाहकार का दर्जा प्राप्त है। इसे संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा संचालित अन्तर्राष्ट्रीय परियोजनाओं में दिये गये उल्लेखनीय योगदान के लिए एक अन्तर्राष्ट्रीय शांतिदूत पुरस्कार तथा छ: राष्ट्रीय स्तर के पीस मेडल प्राप्त हुए है।

Sunday, May 22, 2011

कोई भी व्यक्ति बिना भावों के जी नहीं सकता। हमारे सुख-दु:ख, मित्र-शत्रु, प्रसन्नता-अवसाद आदि सभी भावों पर आधारित हैं। इन्हीं के अनुरूप हमारी प्रतिक्रिय



हमारा शरीर स्थूल और भौतिक है, हम इसके हर अंग और कार्यो को देख सकते हैं, उनका आकलन कर सकते हैं, ऎसा हमारा मानना है। किन्तु, वास्तविकता यह है कि इसका संचालन हमारी बुद्धि करती है, हमारा भाव-तंत्र करता है जिसको हम न देख पाते हैं, न समझ पाते हैं। शरीर में अपने आप तो केवल प्राकृतिक क्रियाएं ही हो सकती हैं, अन्य कुछ नहीं।

कोई भी व्यक्ति बिना भावों के जी नहीं सकता। हमारे सुख-दु:ख, मित्र-शत्रु, प्रसन्नता-अवसाद आदि सभी भावों पर आधारित हैं। इन्हीं के अनुरूप हमारी प्रतिक्रियाएं होती हैं। जीवन के प्रति हमारा दृष्टिकोण ही इनका आधार तय करता है। भाव कहां से आते हैं?

भाव हमारे अनुभवों और दृष्टिकोण का मिश्रण कहे जा सकते हैं। हमारे अनुभव चेतनागत होते हैं। जिस प्रकार हमारी इच्छा मन में स्वत: उठती है, उसी प्रकार हमारे भाव भी स्वयं स्फूर्त होते हैं। अन्तर केवल इतना ही है कि इच्छा का स्वरूप स्वतंत्र होता है और भावना हमारे व्यक्तित्व के अनुरूप ढली होती है।

भावना हमारे सूक्ष्म और कारण शरीरों से जुड़ी होती है, क्योंकि यह स्वयं सूक्ष्म है। इसका प्रतिबिम्ब होता है- हमारा आभा मण्डल। उसे हमारा भावनात्मक शरीर कह सकते हैं। दिनभर हमारे भावों के साथ आभा-मण्डल में भी परिवर्तन होते रहते हैं। आज आभा-मण्डल के अध्ययन में विश्व स्तर पर अनेक संस्थाएं जुड़ी हुई हैं। आभा- मण्डल में दो तरह के परिवर्तन होते हैं- रंगों के रूप में और तरंगों के रूप में। इनका विश्लेष्ाण करके व्यक्ति के भावों का आकलन किया जा सकता है। आज वैज्ञानिकों का मानना है कि प्रकृति का सारा खेल ऊर्जा और पदार्थ के एक-दूसरे में परिवर्तित होने के सिद्धांत पर चलता है। हमारे भाव भी ऊर्जा की श्रेणी में आते हैं, इनको देखना, समझना और मापना भी सम्भव है। जब भावनाओं के द्वारा हमारे मन और शरीर में अनेक क्रियाओं का संचालन होता है तो निश्चित है कि वहां कोई शक्ति है।

भोजन शरीर में पहुंच कर रस बनाता है। रस से रक्त, मांस, मेदा, मज्जा, अस्थि और वीर्य बनते हैं। जो बचता है वह मल-मूत्र के रूप से बाहर निकल जाता है।


जीवन में शक्ति का आदान-प्रदान निरन्तर क्रम के रूप में चलता रहता है। एक से दूसरे का और दूसरे से तीसरे का निर्माण होता है। सृष्टि के इस क्रम को हम अपने ही शरीर में देख सकते हैं। एक कहावत है- “जैसा खावे अन्न, वैसा होवे मन।”

हम जो भोजन करते हैं उससे हमारा शरीर बनता है। इसको आधुनिक चिकित्सा शास्त्र भी मानता है। भारतीय ज्ञान इससे भी ऊपर है। भोजन के साथ भाव का भी महत्व है, क्योंकि इससे खाने वाले का मन तुष्ट होता है। भोजन किस भावना के साथ बनाया गया, किस भाव और दुलार के साथ खिलाया गया, किस वातावरण और मनोभाव से भोजन ग्रहण किया गया, आदि बातों का सीधा प्रभाव मन पर पड़ता है।

व्यक्ति मन की इच्छाएं पूरी करने के लिए कर्म करता है। इच्छा व्यक्ति की मर्जी से पैदा नहीं हो सकती। पूरा करना या न करना व्यक्ति की मर्जी है। जब इच्छा किसी अन्य शक्ति से पैदा होती है और वही हमारा जीवन चलाती है, तो स्वत: ही हम निमित्त बन जाते हैं। हमारा बुद्धि तंत्र निर्णय करता है, योजना करता है और उसी के अनुरूप शरीर को निर्देश देता है। शरीर कार्य में लग जाता है। इसका अर्थ यह निकला कि मन राजा है, बुद्धि और शरीर सेवक हैं। अत: मन, जो हमारी पहचान है, को शक्तिवान बनाना हमारा प्रथम धर्म है, ताकि हमारी पहचान भी वैसी ही बने।

इसका सरलतम और मुख्य मार्ग है- भोजन। भारतीय संस्कृति में हर खुशी की पहली अभिव्यक्ति भोजन ही है। जन्म, विवाह आदि से लेकर जीवन की हर खुशी पर खाना, दावत, पार्टी से आगे कोई अन्य अपेक्षा क्यों नहीं रखता? क्योंकि इसके साथ जीवन-शक्ति जुड़ी है। इससे मन पल्लवित होता है। इसमें वातावरण भी अपना योगदान करता है।

भोजन शरीर में पहुंच कर रस बनाता है। रस से रक्त, मांस, मेदा, मज्जा, अस्थि और वीर्य बनते हैं। जो बचता है वह मल-मूत्र के रूप से बाहर निकल जाता है। यहां स्थूल निर्माण कार्य समाप्त हो जाता है। वीर्य आगे ऊर्जा के रूप में परिवर्तित हो जाता है, इसी से व्यक्ति का मन बनता है। चेहरे का “ओज” इसी से आता है। यही व्यक्तित्व की पहचान बनता है। ब्ा्रह्मचर्य का महत्व भी इसी संदर्भ में समझना चाहिए।

भोजन के गुण- सत्व, रज, तम ही हमारे व्यक्तित्व के महत्वपूर्ण अंग बनते हैं। अत: भोजन हर दृष्टि से महत्वपूर्ण है।

Saturday, May 21, 2011

ब्रह्माकुमार भगवान भाई ने स्कूलो और जेलो में नैतिक शिक्षा का पाठ पढ़ाते-पढ़ाते अपना नाम इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज करवाया।

http://www.youtube.com/watch?v=4Y7hDVk8umM

http://www.youtube.com/watch?v=xzhLNnpOeXQ


http://www.youtube.com/watch?v=lxHu6__VOnU

http://www.youtube.com/watch?v=4Y7hDVk8umM

http://www.youtube.com/watch?v=EQws46bBAko


http://www.youtube.com/watch?v=ANAQz9piyZo


http://www.youtube.com/watch?v=1czzZd1L1K4


http://www.youtube.com/watch?v=jaAojXR1TYM


http://www.youtube.com/watch?v=-6_hSvSqWh0

ब्रह्माकुमार भगवान भाई ने स्कूलो और जेलो में नैतिक शिक्षा का
पाठ पढ़ाते-पढ़ाते अपना नाम इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज करवाया।
बुधवार को ब्रह्मकुमारी राजयोग सेवाकेन्द्र में उनका सम्मान समारोह
आयोजित किया गया। इस अवसर पर जिला परिवहन अधिकारी नेमीचंद पारीक ने उनकों
साफा और माला पहनाकर सम्मानित किया।

भगवान भाई ने पांच हजार स्कूलों और आठ सौ जेलों में नैतिक शिक्षा का पाठ
पढ़ाते हुए कहा ये रिकॉर्ड बनाया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए भगवान
भाई ने कहा कि स्कूलों में जाकर बच्चो को अच्छे चरित्र और सुशिक्षा की
सीख देता हूं।

उन्होंने शिक्षा का अर्थ बताते हुए कहा कि शिक्षा सशक्त, अनुशासन, समझ,
चरित्र निर्माण, व्यक्तित्व विकास, सहनशक्ति, एकाग्रता, आशावादी और
सज्जनता का मिश्रण है। साथ ही उन्होंने बताया कि जेलों और स्कूलो का ये
सफर उन्होंने वर्ष 1996 में जालोर से ही शुरू किया था। वहीं ब्रह्मकुमारी
रंजू बहन ने भगवान भाई के जीवन का परिचय देते हुए बताया कि महाराष्ट्र के
एक गरीब परिवार में जन्म लेने के बाद कठिन परिश्रम कर उन्होंने ये
कामयाबी हासिल की है।

Inculcating Powers Through Rajyoga Meditation - The Power To Co-operate


----------------------------------------------------------
Soul Sustenance 04-01-2011
----------------------------------------------------------

Inculcating Powers Through Rajyoga Meditation - The Power To Co-operate

In India, there is a saying that when everyone gave a finger of
co-operation, the mountain of sorrow was lifted. If we look with open
eyes at the world of today, and at current social, financial and
environmental trends, it's clear that there is widespread suffering
and sorrow, that it is likely to get worse, and that to remove this
sorrow will be a task like lifting a mountain. Meditation ignites a
conviction inside us that the task will be done. Although we have such
different backgrounds, cultures, personalities, and so on; meditation
shapes our personalities in such a way that it becomes easy for us to
share our resources, work together, and give our own finger of
co-operation in the task.

The way meditation achieves this is interesting. Look at the other
side - at what prevents co-operation: it is ego, where I am in a state
of self-glorification, hungry for personal praise or fame, and not
concerned about the wellbeing of the team. In ego, I think I am the
only one who knows, the one who is right. Ego kills co-operation. Ego
is closely connected to body-consciousness. An enormous 'I and my'
factor comes in when I think of myself as this body, and lose sight of
the soul. My race, my color, my gender, my physical appearance, my
education, my family, my job, my position, my possessions - all these
become part of the build-up of ego. Working with others with
co-operation, who may at any moment challenge my ego with their own
different agendas and needs, then becomes stressful.
ANI, Dec 28, 2010, 12.00am IST

Vegetarian diet can prevent cancer

It's a known fact that vegetarian diet helps fight cancer, but a new
research suggests that plants may protect us from cancer in a far more
novel way – they may block a cancer's ability to grow.

Populations that consume less animal food and more plant food have a
lower risk of cancer and the risk of cancer in vegetarians is about 50
per cent lower than among people who eat meat on a regular basis.

Plant foods are high in antioxidants, and antioxidants can protect DNA
from damage that can lead to malignant transformation.

As per the new study, vegetarian food can block cancer's ability to
grow via a process called angiogenesis, a tissue's ability to grow new
blood vessels, reports the Age .

If the process of angiogenesis goes awry, new blood vessels don't form
when they are needed, or blood vessel formation continues out of
control.

Researchers have developed some drugs that can help to shrink tumour
growth or even reduce the spread of cancer by inhibiting angiogenesis.

Scientists like William Li, a researcher who heads the Angiogenesis
Foundation in Cambridge, Massachusetts, are looking at the power of
certain foods to block angiogenesis.

The plant chemicals in the foods like apples, oranges, blackberries,
vegetables like tomato pumpkins etc. seem to be able to inhibit
angiogenesis so that a single cancer cell or cluster of cancer cells
is never able to grow enough to cause any mischief. Some plants also
contain tumour-suppressor proteins, which help to curb the growth of
cancer cells.

Studies in the past have shown that men who eat cooked tomato products
two to three times a week reduce their prostate cancer risk by about
50 per cent.

Up to 35 per cent of cancers may be caused by poor diet, and cancer
risk is also much higher among people who are obese.
Good actions form a good character.

Projection: When there is any wrong action performed, there is a lot of guilt and remorse. Such negative feelings persist, colouring negatively all future actions also. So the regret doesn't help in changing anything at all or improving the situation in any way. Instead it further deteriorates the situation. On the other hand, positive actions consciously performed forms a good character.

Solution: At a time when I do something wrong, if I intentionally and consciously perform a good action, it becomes a base for the old feeling of guilt and remorse to be gone. It is like an audiocassette. When something new and nice is recorded, the old unwanted recording vanishes. So when I record in this way, I will be easily able to do away with my old unwanted habits.

----------------------------------------------------------
Soul Sustenance 03-01-2011
----------------------------------------------------------

The Subtle Forms Of Fear

One result of being afraid is doubt. When a person is lost in a sea of doubts, they cannot believe in the solutions and answers that come to mind, they are not even willing to try them and experiment with them to see if they work.

Doubts can go to the extreme of creating such uncertainty and insecurity that the person suffers mental paralysis or emotional seizure. Then, they can enter a state of panic and become paralyzed to the point of not finding the initiative to be positive. The mind is filled with questions related to How? What? Why?

These questions are not asked in order to find answers but to prolong the doubts, or to remain on the defensive, or in a state of lack of commitment, where the person really does not want to listen or know.

Asking with the objective of being informed is different from doubt.

When someone wants to be informed, they ask constructive questions with an openness to learn and willingness to experiment. When there is fear, expressed in the form of doubts, jealousy, secretiveness or a competitive attitude, there is no willingness to learn. At the heart of all this is the fear of loss, whether it be of a person, position, possession or one's own image. Fears cause dependence, expectations, and conflict with oneself or with others
.Here are My Wishes for You...
H ours of happy times with friends and family
A bundant time for relaxation
P rosperity
P lenty of love when you need it the most
Y outhful excitement at lifes simple pleasures

N ights of restful slumber (you know - dont' worry be happy)
E verything you need
W ishing you love and light

Y ears and years of good health
E njoyment and mirth
A angels to watch over you
R embrances of a happy years!

Friday, May 20, 2011







गुणवान व्यक्ति देश की सम्पति हैं- भगवान भाई

देसूरी,29 जनवरी। cx आबू पर्वत के राजयोगी बी.के. भगवान भाई ने कहा कि गुणवान व्यक्ति देश की सम्पति हैं। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियोंं के सर्वांगिण विकास के लिए भौतिक शिक्षा के साथ-साथ नैतिक शिक्षा की भी आवश्यकता हैँ। चरित्र निर्माण ही शिक्षा का मूल उद्देश्य होता हैं।
वे गुरूवार को यहां क्षेत्रपाल महाविद्यालय में छात्र-छात्राओं को संबोधित कर रहे थे। वे विश्वविद्यालय के राजयोग शिक्षा एवं शोध संस्थान के शिक्षा प्रभाग द्वारा चलाए जारहे अखिल भारतीय शैक्षणिक अभियान 2008-09 के तहत मानवीय मूल्यों द्वारा स्व सशक्तिकरण विषय पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि भौतिकता की ओर धकेल रही भौतिक शिक्षा की बजाय इंसान को नैतिक शिक्षा की आवश्यकता हैं। उन्होंने समाज में मूल्यों की कमी हर समस्या का मूल कारण हैं। इसलिए विद्यार्थियों को मूल्यांकन,आचरण,अनुकरण,लेखन,व्यवहारिक ज्ञान इत्यादि पर जोर देना होगा। उन्होंने कहा कि अज्ञान रूपी अंधकार अथवा असत्य से ज्ञान रूपी प्रकाश अथवा सत्य की ओर ले जाए,वहीं सच्चा ज्ञान हैं।
उन्होंने कहा कि जब तक हमारे व्यवहारिक जीवन में परोपकार,सेवाभाव,त्याग,उदारता,पवित्रता,सहनशीलता,नम्रता,धैर्यता,सत्यता,ईमानदारी, आदि सद्गुण नहीं आते। तब तक हमारी शिक्षा अधूरी हैं। उन्होंने कहा कि समाज अमूर्त होता हैं और प्रेम,सद्भावना,भातृत्व,नैतिकता एवं मानवीय सद्गुणों से सचालित होता हैं।
भगवान भाई ने कहा कि हमें अपने दृष्टिकोण को सकारात्मक बनाने के लिए ज्ञान की आवश्यकता हैं। दृष्टिकोण सकारात्मक रहने पर मनुष्य हर परिस्थिति में सुखी रह सकता हैं। उन्होंने व्यसनों से दूर रहने पर भी जोर दिया। स्थानीय राजयोग केन्द्र की बी.के. कविता बहन ने कहा कि आध्यात्मिकता अपनाने पर जीवन में नैतिक मूल्यों का प्रवेश संभव हैं। महाविद्यालय प्राचार्य घीसूदास रामावत ने सदगुणों का महत्व बताया। संचालन व्याख्यता बाबूलाल कुम्हार ने किया।

"मीठा शब्द बहुत महत्वपूर्ण हैं, प्यार से बोलते हैं." एक किसी भी कीमत के माध्यम से प्यार से बात करके जाना नहीं है, लेकिन अभी भी लोगों के लिए यह करना है






एक मानव किया जा रहा है भाषण उनके भीतर चरण को दर्शाता है. एक कड़वा प्रकृति के साथ एक व्यक्ति कड़वे शब्द और एक मिठाई प्रकृति के साथ एक बात है, हमेशा प्यार से बात करेंगे. उनके शब्दों के माध्यम से कुछ अभिशाप, कुछ आशीर्वाद देने के लिए, कुछ शब्दों को दिल और कुछ मौन क्रोध बींधना.
संतों की धारणा है और दूसरों की शांति को नष्ट नहीं करना चाहता. बहुत से लोग बहुत चालाक हैं, लेकिन अत्यधिक संवेदनशीलता बात को प्रतिबिंबित नहीं करता. उन्हें लगता है कि वे स्मार्ट हैं, लेकिन वे खुद के बारे में गलत राय है. मानसिक शक्ति भी अधिक सोच या बात कर के बारे में और शारीरिक कमजोरी भी लाता है, के लिए कठिनाइयों का सामना ठीक से नहीं कर पा रहा जिसके परिणामस्वरूप द्वारा नष्ट कर दिया है.
कहावत कहते हैं, "भाषण चांदी है, लेकिन. चुप्पी सुनहरा है" आध्यात्मिक पथ पर उन लोगों के लिए विशेष रूप से, कम शक्तिशाली भाषण अमृत की तरह है. एक बातूनी व्यक्ति जीत जीवन के किसी क्षेत्र में कभी नहीं हासिल कर सकते हैं. आप सभी परिस्थितियों के अंतर्गत मूक बने हुए हैं, लेकिन कुछ, समझदार, शक्तिशाली शब्द बोलते नहीं है. एक व्यक्ति को अनावश्यक रूप से बात करने या बुरी भाषा का प्रयोग नहीं है. हमारे शब्द हमारी समस्याओं को बदतर बनाने के लिए या उचित समाधान दे सकते हैं. एक दो लोगों के बीच विवाद शुरू किया और हर एक के लिए उसके लायक दिखाना चाहता था और इसलिए दुश्मन बन गया. , मैं उनमें से एक को सुझाव दिया "मित्र, बड़ों जो लोग माफ कर रहे हैं." ये शब्द उसे पूरी तरह से बदल गया है और उसके मन में सभी दुश्मनी नष्ट कर दिया. एक बातूनी व्यक्ति के लिए खुद को साबित करने का तर्क है, और इसलिए मुद्दों प्रदान करता है, लेकिन यदि आप जीवन के बाहर सुख मिलता है, कोई छोटी बात नहीं करते कृपया वृद्धि करना चाहता हूँ. परिवारों के बीच दुश्मनी पीढ़ी पीढ़ी के बाद के लिए चला जाता है. बुरी भाषा एक तलवार की तरह है, जो की चोट कभी जीवन भर भर देता है. तो, अपने विनम्र शब्दों का ठंडा पानी स्नान करें.
यह भी ध्यान है कि किसी को भी अपने शब्दों को हतोत्साहित नहीं कर देना है, लेकिन जोश और उत्साह दे. तब स्वतः, आप अपने आप जीवन में सफल हो जाएगा. मैं एक घटना जहां एक बच्चे को मानसिक रूप से परेशान था और उसके माता पिता उसे एक आश्रम में भर्ती कराया देखा है. प्रबंधक में उस के प्रभारी प्रेम, समझ, उत्साह और इस हद है कि यह बच्चा, अब सयाना, इस आश्रम कार्यों के कई सफलतापूर्वक और आसानी से कर सकते करने के लिए उत्साह की बहुत सारी के साथ अपनी चेतना जागृत आश्रम.
वहाँ बहुत अच्छी तरह से शिक्षित, साक्षर, समझदार लोग हैं जो जानते हैं कि कैसे प्यार से बात करने के लिए नहीं है, लेकिन बजाय दूसरों से मीठी बातें सुनना चाहते हैं. हमारे व्यवहार तरह हम दूसरों से क्या उम्मीद के रूप में ही किया जाना चाहिए. आदेश में जीवन में सुख हासिल करने के लिए, प्यार से बोल रहा है और अपने शब्दों में और अपने व्यवहार में प्यार है कि कैसे की कला सीख लो.

भगवान भाई प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय








तनाव मुक्ति के उपाय----- ब्रह्मकुमार भगवन भाई
तनाव मुक्ति के उपाय----- ब्रह्मकुमार भगवन भाई आबू पर्वत राजस्तान
1. जीवन की हर एक घटना में किसी न किसी रूप से आपको लाभ ही होता
है.परोक्ष रूप से होने वाले लाभ के बारे में ही सदैव सोचिये .
२. भूतकाल में की गई गलतियों का पश्चाताप न करें तथा भविष्य की चिंता न
करें.वर्तमान को सफल बनाने के लिए पूरा ध्यान दीजिये.आज ही दिन आपके हाँथ
में है.आज आप रचनात्मक कार्य करेंगें तो कल की गलतियाँ मिट जाएगी और
भविष्य में अवश्य लाभ होगा.
3. आप अपने जीवन की तुलना अन्य के साथ कर चिंतित न हों.क्योंकि इस विश्व
में आप एक अनोखे और विशिष्ट व्यक्ति हैं.इस विश्व में आपके और जैसा कोई
नहीं है .
4. सदैव याद रखिये कि आपकी निंदा करने वाला आपका मित्र है जो आपसे बिना
मूल्य एक मनोचिकित्सक की भांति आपकी गलतियों व आपकी खामियों की तरफ आपका
ध्यान खिचवाता है.
5 आप दुख पहुँचाने वाले को क्षमा कर दो तथा उसे भूल जाओ.
6. सभी समस्याओं को एक साथ सुलझाने का प्रयत्न करके मुझना नहीं.एक समय पर
एक ही समस्या का समाधान करें
7. जितना हो सके उतना दूसरों के सहयोगी बनने का प्रयत्न करें.दूसरों के
सहायक बनने से आप अपनी चिंताओं को अवश्य भूल जायेंगें.
8. जीवन में आ रही समस्याओं को देखने का दृष्टिकोण बदलें.दृष्टिकोण को
बदलने से आप दुख को सुख में परिवर्तन कर सकेंगें.
9. जिस परिस्थिति को आप नहीं बदल सकते उसके बारे में सोंच कर दुखी मत
हों.याद रखिये कि समय एक श्रेष्ठ दवा है.
10. यह सृष्टी एक विशाल नाटक है जिसमे हम सभी अभिनेता हैं.हर एक अभिनेता
अपना श्रेष्ठ अभिनय अदा कर रहा है .इसलिए किसी के भी अभिनय को देख कर
चिंतित न हों.
11. बदला न लो लेकिन पहले स्वयं को बदलने का प्रयत्न करो.बदला लेने कि
इच्छा से तो मानसिक तनाव ही बढ़ता है.स्वयं को बदलने का प्रयत्न करने से
जीवन में प्रगति होती है
12. ईर्ष्या न करो परन्तु ईश्वर का चिंतन करो.ईर्ष्या करने से तो मन जलता
है परन्तु ईश्वर का चिंतन करने से मन असीम शीतलता का अनुभव करता है
14. जब आप समस्याओं का सामना करतें है तो ऐसा सोंचिये कि आपके भूतकाल के
कर्मों का हिसाब चुक्तु (चुकता ) हो रहा है.
15. आपके अन्दर रहा थोडा भी अहंकार मन कि स्थिति में असंतुलन का निर्माण
करता है.इसलिए उस थोड़े भी अहंकार का भी त्याग करिये .ययद रखिये कि आप
खली हाँथ आयें थे और खली हाँथ ही वापस जायेंगें.
16. दिन में चार पांच बार कुछ मिनट अपने संकल्पों को साक्षी होकर देखने
का अभ्यास ,चिंताओं से मुक्त करने में सहायक बनता है.
17. अप अपनी सभी चिंताएं परमपिता परमात्मा को समर्पित कर दीजिये
आता है वह तनाव एवं चिंताओं को दूर करके स्वाथ्य में वृद्धि करता है।
18. जीवन में आ रही समस्याओं को देखने का दृष्टिकोण बदलें.दृष्टिकोण को
बदलने से आप दुख को सुख में परिवर्तन कर सकेंगें.
उपरोक्त विचार "प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय
विश्वविद्यालय"ब्रह्मकुमार भगवन भाई आबू पर्वत राजस्तान द्वारा

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय आबू पर्वत के राजयोगी बी.के. भगवान भाई


गुणवान व्यक्ति देश की सम्पति हैं- भगवान भाई

देसूरी,29 जनवरी। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय आबू पर्वत के राजयोगी बी.के. भगवान भाई ने कहा कि गुणवान व्यक्ति देश की सम्पति हैं। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियोंं के सर्वांगिण विकास के लिए भौतिक शिक्षा के साथ-साथ नैतिक शिक्षा की भी आवश्यकता हैँ। चरित्र निर्माण ही शिक्षा का मूल उद्देश्य होता हैं।
वे गुरूवार को यहां क्षेत्रपाल महाविद्यालय में छात्र-छात्राओं को संबोधित कर रहे थे। वे विश्वविद्यालय के राजयोग शिक्षा एवं शोध संस्थान के शिक्षा प्रभाग द्वारा चलाए जारहे अखिल भारतीय शैक्षणिक अभियान 2008-09 के तहत मानवीय मूल्यों द्वारा स्व सशक्तिकरण विषय पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि भौतिकता की ओर धकेल रही भौतिक शिक्षा की बजाय इंसान को नैतिक शिक्षा की आवश्यकता हैं। उन्होंने समाज में मूल्यों की कमी हर समस्या का मूल कारण हैं। इसलिए विद्यार्थियों को मूल्यांकन,आचरण,अनुकरण,लेखन,व्यवहारिक ज्ञान इत्यादि पर जोर देना होगा। उन्होंने कहा कि अज्ञान रूपी अंधकार अथवा असत्य से ज्ञान रूपी प्रकाश अथवा सत्य की ओर ले जाए,वहीं सच्चा ज्ञान हैं।
उन्होंने कहा कि जब तक हमारे व्यवहारिक जीवन में परोपकार,सेवाभाव,त्याग,उदारता,पवित्रता,सहनशीलता,नम्रता,धैर्यता,सत्यता,ईमानदारी, आदि सद्गुण नहीं आते। तब तक हमारी शिक्षा अधूरी हैं। उन्होंने कहा कि समाज अमूर्त होता हैं और प्रेम,सद्भावना,भातृत्व,नैतिकता एवं मानवीय सद्गुणों से सचालित होता हैं।
भगवान भाई ने कहा कि हमें अपने दृष्टिकोण को सकारात्मक बनाने के लिए ज्ञान की आवश्यकता हैं। दृष्टिकोण सकारात्मक रहने पर मनुष्य हर परिस्थिति में सुखी रह सकता हैं। उन्होंने व्यसनों से दूर रहने पर भी जोर दिया। स्थानीय राजयोग केन्द्र की बी.के. कविता बहन ने कहा कि आध्यात्मिकता अपनाने पर जीवन में नैतिक मूल्यों का प्रवेश संभव हैं। महाविद्यालय प्राचार्य घीसूदास रामावत ने सदगुणों का महत्व बताया। संचालन व्याख्यता बाबूलाल कुम्हार ने किया।

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय

गुणवान व्यक्ति देश की सम्पति हैं- भगवान भाई

देसूरी,29 जनवरी। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय आबू पर्वत के राजयोगी बी.के. भगवान भाई ने कहा कि गुणवान व्यक्ति देश की सम्पति हैं। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियोंं के सर्वांगिण विकास के लिए भौतिक शिक्षा के साथ-साथ नैतिक शिक्षा की भी आवश्यकता हैँ। चरित्र निर्माण ही शिक्षा का मूल उद्देश्य होता हैं।
वे गुरूवार को यहां क्षेत्रपाल महाविद्यालय में छात्र-छात्राओं को संबोधित कर रहे थे। वे विश्वविद्यालय के राजयोग शिक्षा एवं शोध संस्थान के शिक्षा प्रभाग द्वारा चलाए जारहे अखिल भारतीय शैक्षणिक अभियान 2008-09 के तहत मानवीय मूल्यों द्वारा स्व सशक्तिकरण विषय पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि भौतिकता की ओर धकेल रही भौतिक शिक्षा की बजाय इंसान को नैतिक शिक्षा की आवश्यकता हैं। उन्होंने समाज में मूल्यों की कमी हर समस्या का मूल कारण हैं। इसलिए विद्यार्थियों को मूल्यांकन,आचरण,अनुकरण,लेखन,व्यवहारिक ज्ञान इत्यादि पर जोर देना होगा। उन्होंने कहा कि अज्ञान रूपी अंधकार अथवा असत्य से ज्ञान रूपी प्रकाश अथवा सत्य की ओर ले जाए,वहीं सच्चा ज्ञान हैं।
उन्होंने कहा कि जब तक हमारे व्यवहारिक जीवन में परोपकार,सेवाभाव,त्याग,उदारता,पवित्रता,सहनशीलता,नम्रता,धैर्यता,सत्यता,ईमानदारी, आदि सद्गुण नहीं आते। तब तक हमारी शिक्षा अधूरी हैं। उन्होंने कहा कि समाज अमूर्त होता हैं और प्रेम,सद्भावना,भातृत्व,नैतिकता एवं मानवीय सद्गुणों से सचालित होता हैं।
भगवान भाई ने कहा कि हमें अपने दृष्टिकोण को सकारात्मक बनाने के लिए ज्ञान की आवश्यकता हैं। दृष्टिकोण सकारात्मक रहने पर मनुष्य हर परिस्थिति में सुखी रह सकता हैं। उन्होंने व्यसनों से दूर रहने पर भी जोर दिया। स्थानीय राजयोग केन्द्र की बी.के. कविता बहन ने कहा कि आध्यात्मिकता अपनाने पर जीवन में नैतिक मूल्यों का प्रवेश संभव हैं। महाविद्यालय प्राचार्य घीसूदास रामावत ने सदगुणों का महत्व बताया। संचालन व्याख्यता बाबूलाल कुम्हार ने किया। video

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय





मैं कौन हूं? 'आत्मविश्वास और घमंड'- इन दोनों शब्दों में बड़ा फर्क है। घमंड का अर्थ अहंकार होता और आत्मविश्वास का अर्थ है अपने ऊपर विश्वास। इस अंतर क








मैं कौन हूं? 'आत्मविश्वास और घमंड'- इन दोनों शब्दों में बड़ा फर्क है।

घमंड का अर्थ अहंकार होता और आत्मविश्वास का अर्थ है अपने ऊपर विश्वास।

इस अंतर को समझना चाहिए, वरना लोग सोचते हैं कि इंसान में आत्मगौरव नहीं

होना चाहिए। उन्हें लगता है कि 'मैं दूसरों के सामने कुछ नहीं हूं' ऐसा

सोचना चाहिए। इस तरह वे दूसरी किस्म के अज्ञान में चले जाते हैं। जहां

अहंकार, तुच्छता और आत्महीनता भी नहीं है, वहां आत्मज्ञान का दर्शन होता

है।



जिसे खुद पर विश्वास है, वह सही कदम उठाता है। वह उतना ही खाना खाएगा,

जितना खाना उसे तकलीफ नहीं देगा। जिसे सिर्फ अहंकार है वह ज्यादा खाना खा

लेगा, चाहे उसे तकलीफ ही क्यों न हो जाए। अहंकारी चार लोगों को दिखाएगा

कि 'देखो, मेरी क्षमता और काबिलियत कितनी ज्यादा है! सभी को गुलाब जामुन

दिए जा रहे थे, मुझे ज्यादा मिले क्योंकि मैं दूसरों से श्रेष्ठ हूं।'

दूसरों को दिखाने के लिए कि 'मैं वी.आई.पी. (विशेष) इंसान हूं, मुझे

ज्यादा दिया जाए', वह ज्यादा की मांग करेगा, ज्यादा खाएगा, बीमार होगा

मगर अकड़ा ही रहेगा। यह अहंकार का रूप है। अहंकार में वह ज्यादा खाएगा,

क्योंकि उसे अपने प्रति आदर नहीं है, सिर्फ लोगों के सामने दिखावे के लिए

वह अपनी हानि भी करने को तैयार हो जाता है।



एक बार एक राजनेता जब सरकारी कार्यालय में किसी काम से पहुंचा, तब

कार्यालय के कर्मचारी ने उन्हें कुछ समय ठहरने के लिए कहा। राजनेता को

बहुत बुरा लगा, उनके अहंकार को बड़ी चोट पहुंची। उन्होंने कर्मचारी से

कहा, 'मुझे ज्यादा समय रुकने की आदत नहीं है।' कर्मचारी ने कहा, 'थोड़ा

समय लगनेवाला है, आप तब तक सामनेवाली कुर्सी पर बैठ जाएं।' राजनेता ने

गुस्से में कहा, 'क्या तुम नहीं जानते कि मैं एक राजनेता हूं?' कर्मचारी

ने कहा, 'ऐसा है तो आप दो कुर्सियों पर बैठ जाएं।'



यह तो एक चुटकुला था, जो अहंकार पर चोट पहुंचाने के लिए बताया गया।

अहंकार भी कुछ इस तरह का ही होता है, चाहे जरूरत एक ही कुर्सी की हो,

लेकिन अपनी विशेषता बताने के लिए वह दो कुर्सियों की मांग करता है।
अहंकार का अर्थ और आदर का महत्व: अहंकार का मूल अर्थ है अपने आपको दूसरों

से अलग मानना, महसूस करना और स्वयं को दूसरों से श्रेष्ठ सिद्ध करना।

इंसान में यह मूल अहंकार होता है कि 'मैं दूसरों से अलग हूं, मैं अपने

आपको दूसरों से अलग मानता हूं, अलग मानकर मैं नफरत लाऊं।' तब उसे यही कहा

जाता है कि 'अपने आपको अलग मान ही रहे हैं तो कम से कम दूसरों के प्रति

अपने मन में नफरत तो न जगाएं, नफरत से आप नरक के गड्ढे में गिर जाएंगे।

अपने आपको यदि आप श्रेष्ठ मान ही रहे हैं तो कम से कम दूसरों को नीचा

दिखाने की कोशिश तो न करें, जिससे आप ईर्ष्या व क्रोध की ज्वाला में तो न

जलें। अपने प्रति आदर रखने से संभावना है तो आप इस अहंकार से बाहर आ

जाएंगे।'



आप अपने प्रति आदर तभी दे पाएंगे, जब आप यह जान जाएंगे कि 'मैं कौन हूं?

मुझे अपने आपको जानना चाहिए तभी मैं खुश रह पाऊंगा, वरना मेरा विकास कैसे

होगा?' हमें स्वयं के प्रति आदर है तो हम चाहेंगे कि हम जल्द से जल्द

सत्य जानें। अपने प्रति आदर होना बहुत मुख्य है। शुरुआत वहीं से होगी।

स्वयं को आदर देने वाला इंसान गलतियों से बचने का रास्ता ढूंढ़ना चाहेगा।

वह कभी नहीं चाहेगा कि उसकी आजादी छिन जाए।

हानी प्राचीन समय की बात है। एक साहूकार के सात बेटे और उनकी एक बहन करवा थी। सभी सातों भाई अपनी बहन से बहुत प्यार करते थे।







कहानी
प्राचीन समय की बात है। एक साहूकार के सात बेटे और उनकी एक बहन करवा थी। सभी सातों भाई अपनी बहन से बहुत प्यार करते थे। यहाँ तक कि वे पहले उसे खाना खिलाते और बाद में स्वयं खाते थे। एक बार उनकी बहन ससुराल से मायके आई हुई थी।
शाम को भाई जब अपना व्यापार-व्यवसाय बंद कर घर आए तो देखा उनकी बहन बहुत व्याकुल थी। सभी भाई खाना खाने बैठे और अपनी बहन से भी खाने का आग्रह करने लगे, लेकिन बहन ने बताया कि उसका आज करवा चौथ का निर्जल व्रत है और वह खाना सिर्फ चंद्रमा को देखकर उसे अर्घ्यो देकर ही खा सकती है। चूँकि चंद्रमा अभी तक नहीं निकला है, इसलिए वह भूख-प्यास से व्याकुल हो उठी है।
सबसे छोटे भाई को अपनी बहन की हालत देखी नहीं जाती और वह दूर पीपल के पेड़ पर एक दीपक जलाकर चलनी की ओट में रख देता है। दूर से देखने पर वह ऐसा प्रतीत होता है कि जैसे चतुर्थी का चाँद उदित हो रहा हो।
इसके बाद भाई अपनी बहन को बताता है कि चाँद निकल आया है, तुम उसे अर्घ्य देने के बाद भोजन कर सकती हो। बहन खुशी के मारे सीढ़ियों पर चढ़कर चाँद को देखती है, उसे अर्घ्य देकर खाना खाने बैठ जाती है।
वह पहला टुकड़ा मुँह में डालती है तो उसे छींक आ जाती है। दूसरा टुकड़ा डालती है तो उसमें बाल निकल आता है और जैसे ही तीसरा टुकड़ा मुँह में डालने की कोशिश करती है तो उसके पति की मृत्यु का समाचार उसे मिलता है। वह बौखला जाती है।
उसकी भाभी उसे सच्चाई से अवगत कराती है कि उसके साथ ऐसा क्यों हुआ। करवा चौथ का व्रत गलत तरीके से टूटने के कारण देवता उससे नाराज हो गए हैं और उन्होंने ऐसा किया है।
सच्चाई जानने के बाद करवा निश्चय करती है कि वह अपने पति का अंतिम संस्कार नहीं होने देगी और अपने सतीत्व से उन्हें पुनर्जीवन दिलाकर रहेगी। वह पूरे एक साल तक अपने पति के शव के पास बैठी रहती है। उसकी देखभाल करती है। उसके ऊपर उगने वाली सूईनुमा घास को वह एकत्रित करती जाती है।
एक साल बाद फिर करवा चौथ का दिन आता है। उसकी सभी भाभियाँ करवा चौथ का व्रत रखती हैं। जब भाभियाँ उससे आशीर्वाद लेने आती हैं तो वह प्रत्येक भाभी से 'यम सूई ले लो, पिय सूई दे दो, मुझे भी अपनी जैसी सुहागिन बना दो' ऐसा आग्रह करती है, लेकिन हर बार भाभी उसे अगली भाभी से आग्रह करने का कह चली जाती है।
इस प्रकार जब छठे नंबर की भाभी आती है तो करवा उससे भी यही बात दोहराती है। यह भाभी उसे बताती है कि चूँकि सबसे छोटे भाई की वजह से उसका व्रत टूटा था अतः उसकी पत्नी में ही शक्ति है कि वह तुम्हारे पति को दोबारा जीवित कर सकती है, इसलिए जब वह आए तो तुम उसे पकड़ लेना और जब तक वह तुम्हारे पति को जिंदा न कर दे, उसे नहीं छोड़ना। ऐसा कह के वह चली जाती है।
सबसे अंत में छोटी भाभी आती है। करवा उनसे भी सुहागिन बनने का आग्रह करती है, लेकिन वह टालमटोली करने लगती है। इसे देख करवा उन्हें जोर से पकड़ लेती है और अपने सुहाग को जिंदा करने के लिए कहती है। भाभी उससे छुड़ाने के लिए नोचती है, खसोटती है, लेकिन करवा नहीं छोड़ती है।
अंत में उसकी तपस्या को देख भाभी पसीज जाती है और अपनी छोटी अँगुली को चीरकर उसमें से अमृत उसके पति के मुँह में डाल देती है। करवा का पति तुरंत श्रीगणेश-श्रीगणेश कहता हुआ उठ बैठता है। इस प्रकार प्रभु कृपा से उसकी छोटी भाभी के माध्यम से करवा को अपना सुहाग वापस मिल जाता है। हे श्री गणेश माँ गौरी जिस प्रकार करवा को चिर सुहागन का वरदान आपसे मिला है, वैसा ही सब सुहागिनों को मिले।